Maldives allows Chinese spy ship Jiang Yang Hong 3 to visit Male after controversy with India | साजिश या कुछ और? मालदीव में चीन के ‘जासूसी जहाज’ को एंट्री की मंजूरी, कहा


China Ship in Maldives: मालदीव सरकार ने चीनी ‘अनुसंधान पोत' जियांग यांग होंग 03 को समुद्री सीमा क्षेत्र में आने की अनुमति दी है. मालदीव की ओर से इस बारे में कहा गया कि जहाज मालदीव के जल क्षेत्र में कोई ‘अनुसंधान' नहीं करेगा. जहाज के रोटेशन के लिए चीन सरकार की ओर से मंजूरी मांगी गई थी.

मालदीव सरकार के बयान के मुताबिक, “मालदीव हमेशा मित्र देशों के जहाजों के लिए एक स्वागतयोग्य जगह रहा है और शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए बंदरगाह पर जाने वाले नागरिक और सैन्य दोनों जहाजों की मेजबानी करता रहा है.” इस बीच, एक रिपोर्ट में मालदीव के हवाले से बताया गया कि इस तरह का फैसला मालदीव और साझेदार देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाता है और मित्र देशों के जहाजों का स्वागत करने की सदियों पुरानी परंपरा को भी दर्शाता है.

फरवरी में Male पहुंचेगा यह जहाज 

“मित्र देशों के जहाजों का स्वागत” वाले बयान को भारत पर सीधे हमले के तौर पर देखा जा रहा है, जबकि माले के नई दिल्ली से हटकर बीजिंग की ओर बढ़ने के सबूत के रूप में माना जा रहा है. चीन का कदम हिंद महासागर क्षेत्र या आईओआर में एक संभावित महत्वपूर्ण भूराजनीतिक और सैन्य बदलाव है. वैसे, इस जहाज को सैन्य उद्देश्यों के लिए हिंद महासागर के तल की मैपिंग करने वाले जासूसी जहाज के रूप में देखा जाता है. यह जहाज फरवरी महीने की शुरुआत में मालदीव की राजधानी माले पहुंचेगा. 

कितना खतरनाक है चीनी जहाज?
4,300 टन वजनी जियांग यांग होंग 03 को हिंद महासागर के तल की मैपिंग अनुसंधान जहाज के रूप में जाना जाता है. इस तरह के अनुसंधान अभ्यास मूल्यवान डेटा प्रदान कर सकते हैं जो पानी के नीचे भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाओं की भविष्यवाणी करने में मदद कर सकते हैं. मैपिंग चीन को भविष्य में पनडुब्बियों और सबमर्सिबल ड्रोन का उपयोग करके जल में नेविगेट करने में भी सक्षम बनाती है.

वहीं, समाचार एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट में कहा गया कि एक भारतीय सैन्य अधिकारी ने साइमन के पाए जाने की पुष्टि की और कहा कि वे उसकी गतिविधि पर नजर रख रहे हैं. भारत अक्सर चीन द्वारा “अनुसंधान” जहाजों के सैन्य उपयोग के बारे में चिंता जताता रहा है. दरअसल, महीने की शुरुआत में भारत और मालदीव के संबंधों में तनाव देखा गया था. मालदीव के तीन मंत्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लक्षद्वीप यात्रा को लेकर अपमानजनक टिप्पणियां की थीं जिसके बाद डैमैज कंट्रोल के तहत मालदीव को उन तीन मंत्रियों के खिलाफ एक्शन लेना पड़ा था.

ये भी पढ़ेंः Kuwait News: कुवैत 1 लाख अवैध विदेशी प्रवासियों को देश से निकालेगा बाहर, जानें किन लोगों पर पड़ेगा इसका असर

Leave a Comment